Skip to main content

Posts

aanewale saptah ka panchang aur rashifal

Upcoming panchang and rashifal, 14 to 20 august 2022 predictions , किन राशी वालो का भाग्य चमकेगा इस सप्ताह, साप्ताहिक राशिफल, जानिए कौन से महत्त्वपूर्ण दिन मिलेंगे आने वाले सप्ताह में | इस सप्ताह 1 सर्वार्थ सिद्धि के योग मिलेगा जब हम महत्त्वपूर्ण कार्यो को कर सकते हैं : 20 अगस्त, शनिवार को सूर्योदय से रात्रि अंत तक सर्वार्थ सिद्धि का योग रहेगा | aanewale saptah ka panchang aur rashifal आइये अब जानते हैं की आने वाले सप्ताह में कौन कौन से महत्त्वपूर्ण दिन मिलेंगे हमे : पंचक 12 तारीख को शाम 4:28 से शुरू होंगे और १६ की रात्रि 1:37 तक रहेंगे | काजरी तीज 14 अगस्त, रविवार को है | गणेश चतुर्थी का व्रत 15 अगस्त, सोमवार को रहेगा | गोगा पंचमी १६ अगस्त, मंगलवार को है | हल षष्ठी व्रत 17 अगस्त को है | सिंह संक्रांति 17 अगस्त बुधवार को होगी | श्री कृष्ण जन्माष्टमी  19 अगस्त, शुक्रवार को मानेगा | गोगा नवमी 20 अगस्त , शनिवार को है | आइये अब जान लेते हैं किन राशि वालो के जीवन में ज्यादा बदलाव नजर आ सकता है  14 to 20 August  2022 के बीच : : सप्ताह के शुरुआत में अर्थात 15 और 16 अगस्त को  : सप्ताह
Recent posts

laxmi Strotram dhan aur maha sukho ke liye

भव्य सुखों के लिए श्री लक्ष्मी स्तोत्र, जीवन में सुख, शांति और सफलता को आकर्षित करने के लिए दिव्य मंत्र, संस्कृत में श्री लक्ष्मी स्तोत्रम हिंदी अर्थ सहित । लक्ष्मी स्तोत्र बहुत ही पवित्र है और जो कोई भी इसे दिन में तीन बार यानि सुबह, दोपहर और शाम को पढ़ता है, वह भगवान कुबेर यानी खजाने के देवता के समान हो जाता है। जो कोई भी इस स्रोत का 5 लाख बार पाठ करता है, वह स्रोत सक्रिय हो जाता है अर्थात सिद्ध हो जाता है और पूर्ण फल देने लगता है। जो कोई भी 1 महीने तक लगातार लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ करता है, वह बहुत प्रसन्न होता है। तो अपने दुखों को दूर करने के लिए, माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए, भव्य सुखों को आकर्षित करने के लिए, हम लक्ष्मी स्तोत्र का पाठ दिन में 3 बार यानि सुबह, दोपहर और शाम को कर सकते हैं। laxmi Strotram dhan aur maha sukho ke liye इन्द्र उवाच ऊँ नम: कमलवासिन्यै नारायण्यै नमो नम: । कृष्णप्रियायै सारायै पद्मायै च नमो नम: ॥1॥ पद्मपत्रेक्षणायै च पद्मास्यायै नमो नम: । पद्मासनायै पद्मिन्यै वैष्णव्यै च नमो नम: ॥2॥ सर्वसम्पत्स्वरूपायै सर्वदात्र्यै नमो नम: । सुखदायै मोक्षदायै सिद्

Rinmukti ke liye ganesh mantra

 ऋण समस्या का उपाय, ऋण मुक्ति गणेश स्तोत्रम, गणेश पूजा के माध्यम से वित्तीय समस्या का समाधान। अगर कोई कर्ज की समस्या से गुजर रहा है, अगर व्यापार घाटे में चल रहा है, अगर आपको पैसे बचाने में समस्या आ रही है तो इसका एक सबसे अच्छा समाधान है  ऋण मुक्ति गणेश स्तोत्रम  का पाठ करना। भगवान गणेश में जीवन की बाधाओं को दूर करने की जबरदस्त शक्ति है और यदि कोई इस स्तोत्र का पाठ करता है तो निस्संदेह जीवन सफल हो जाता है | Rinmukti ke liye ganesh mantra Read in english about solution of DEBT PROBLEM by Rinmukti ganesh strotram. किनको करना चाहिए ऋण मुक्ति गणेश स्तोत्रम का पाठ ? जिन लोगो के ऊपर ऋण बढ़ता जा रहा है और कोई रास्ता नजर नहीं आ रहा है उन्हें इस स्त्रोत का पाठ रोज 3 समय करना चाहिए और भगवन गणेश से ऋण मुक्ति के लिए प्रार्थना करना चाहिए | जो लोग बेरोजगार है और आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं उन्हें भी इस स्त्रोत का पाठ रोज करना चाहिए |  जिन लोगो को व्यापार में लगातार घाटा हो रहा है वे भी इस स्त्रोत का पाठ रोज कर सकते हैं |  ऋण मुक्ति गणेश स्तोत्रम का पाठ किसी भी प्रकार की आर्थिक बाधा को दूर करने म

Raksha Bandhan Ka Mantra

Raksha Bandhan Ka Mantra || रक्षा बंधन मंत्र  || Mantra in Sanskrit & Hindi,  रक्षा बंधन की कथा  ,  किस दिशा में भाई का मुख रहना चाहिए राखी बाँधने के समय?  #rakshabandhanmantra #रक्षाबंधनमंत्र  हर साल सावन महीने की पूर्णिमा को पूरे  देश में रक्षा बंधन का पवित्र त्यौहार मनाया जाता है |  इस दिन हर बहन अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र यानि के राखी बांधती है और उनसे हमेशा रक्षा करने की कामना करती है और भाई की उन्नति की कामना करती है | इस दिन भक्त भी अपने भगवान् को राखी बांधते हैं | Raksha Bandhan Ka Mantra  ऐसी मान्यता है की रक्षा बंधन के दिन अर्थात श्रावण पूर्णिमा को राखी बाँधने से वर्ष भर रोगों और बुरी नजर से रक्षा होती है | रक्षाबंधन के दिन पहले माथे पे तिलक लगाया जाता है और फिर राखी बाँधी जाती है फिर भाई की आरती भी की जाती है | बहन भगवान् से भाई के उन्नति और सफलता के लिए भगवन से प्रार्थना करती है | Read in english about Rakshan Bandhan Mantra रक्षा बंधन पर राखी बांधे के समय किस मन्त्र का जप करना चाहिए : येन बद्धो बलि राजा, दानवेंद्रो महाबलः,  तेन त्वाम प्रतिबध्नायमि, रक्षे मा

Mangal ka vrishabh raashi me gochar rashifal

Mangal ka vrishabh rashi mai gochar,  मंगल का वृषभ राशि में गोचर का राशिफल, जानिए २०२२ में मंगल कब वृषभ राशि में प्रवेश करेंगे ?, जानिए लव राशिफल | 10 अगस्त , बुधवार को रात्रि को लगभग 9:43 बजे मंगल अपने स्व राशि से निकल के वृषभ राशी में प्रवेश करेंगे जो की मंगल की सम राशि है | इस बदलाव के कारण गोचर कुंडली में बना हुआ अंगारक योग ख़त्म होगा जिसके कारण बहुत से शुभ परिणाम हमे देखने को मिलेंगे | वैदिक ज्योतिष के अनुसार मंगल ग्रह साहस,ऊर्जा, भूमि, शक्ति, भाई, पराक्रम, शौर्य का कारक होता है।  अगर कुंडली में मंगल शुभ हो तो ऐसे में जातक को साहसी बनता है, निडर बनता है, भूमि लाभ देता है, रोमांटिक भी बनाता है | Mangal ka vrishabh raashi me gochar rashifal Mars transit in taurus on 10th of august 2022, check predictions आइये जानते हैं की मंगल के वृषभ राशि में गोचर से 12 राशि वालो के जीवन में क्या बदलाव होंगे ? मेष राशिफल : 10 अगस्त 2022 को मंगल के वृषभ राशि में गोचर से मेष राशि के लोगो को मानसिक समस्याओं से निजात मिलेगा परन्तु अपने स्वाश्थ्य को लेके ज्यादा ध्यान रखने की आवश्यकता है

Annapurna Strotram Benefits In Hindi

 अन्नपूर्णा स्तोत्रम, देवी अन्नपूर्णा पूजा करने के लाभ, हिंदी अर्थ, annapurna strotram | ज्योतिषी कुंडली में समस्याओं के अनुसार विभिन्न प्रकार के उपाय प्रदान करते हैं। यहाँ गरीबी, भूख और कमजोरी से उबरने का सबसे अच्छा उपाय दिया जा रहा है | भोजन हमारे जीवन का अनिवार्य अंग है, भोजन के बिना कोई भी प्राणी जीवित नहीं रह सकता। देवी अन्नपूर्णा इस ब्रह्मांड में भोजन को नियंत्रित करने वाली देवी हैं और इसलिए यदि कोई देवी अन्नपूर्णा की पूजा करता है तो एक स्वस्थ और समृद्ध जीवन जीना संभव है। अन्नपूर्णा देवी माता पार्वती का अवतार है और बहुत दयालु है। वह भक्तों को पौष्टिक भोजन का आशीर्वाद देती हैं। वाराणसी यानी काशी में देवी अन्नपूर्णा का एक प्रसिद्ध मंदिर है जहां देवी के आशीर्वाद से बिना किसी अंतराल के भंडारा चलता रहता है। Annapurna Strotram Benefits In Hindi अन्नपूर्णा देवी पूजा के लाभ: देवी हमें स्वस्थ और स्वादिष्ट भोजन का आशीर्वाद प्रदान करती है । भक्त स्वस्थ मन और शरीर प्राप्त करने में सक्षम होता  है। अगर कोई किसान देवी अन्नपूर्णा की पूजा करता है तो फसल उत्पादन में वृद्धि संभव है। यदि हम

Budh ka singh rashi me gochar rashifal in hindi jyotish

बुध का सिंह राशि में कब होगा गोचर, सिंह राशि में बुध के गोचर का 12 राशियों पर क्या होगा असर, what will be the effect of Mercury's transit in singh rashi on 12 zodiac signs, जानिए किन राशि वालों को मिलेगा लाभ, किन लोगों के जीवन में बढ़ेगी चुनौतियां, जानिए प्रेम राशिफल . 1 अगस्त 2022 को बुध ग्रह सिंह राशि में प्रवेश कर चुका है जो कि इसकी मित्र राशि है । यह यहां 20 अगस्त, 2022 तक रहेगा। वैदिक ज्योतिष के अनुसार बुध ग्रह बुद्धि, ज्ञान, त्वचा, उत्तर दिशा, स्वर शक्ति आदि से संबंधित है। कुंडली में शक्तिशाली बुध व्यक्ति को बुद्धिमान, हाजिर जवाब  और सफल बनाता है। सिंह राशि में बुध का गोचर सभी के लिए बहुत फायदेमंद होता है क्योंकि सिंह राशि में बुध सकारात्मकता होते है। बुध ग्रह का मंत्र है:  "ॐ  ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः" Budh ka singh rashi me gochar rashifal in hindi jyotish Read predictions in English of mercury transit in leo zodiac . बुध के सिंह राशि में गोचर का 12 राशियों पर क्या होगा असर: मेष राशिफल: सिंह राशि में बुध के गोचर से मेष राशि के जातक रिश्तों, व्याप