best astrology services

Shivratri 2021 Kyu Khaas Hai

2021 में शिवरात्रि का ज्योतिष महत्त्व, क्या करे भगवन शिव को प्रसन्न करने के लिए, राशि अनुसार शिव पूजा कैसे करे.

हर साल शिवरात्री फाल्गुन महीने के चौदस को आती है, ऐसा माना जाता है की इस रात्री को शिव और पार्वती का विवाह हुआ था. इसी कारण भक्तगण इस दिन और रात को धूम धाम से मनाते हैं,  व्रत रखते हैं, शिव मंत्र का जप करते हैं , कीर्तन करते हैं, प्रसाद वितरण करते हैं |

2021 में शिवरात्रि 11 मार्च , गुरुवार को 

Shivratri 2021 Kyu Khaas Hai
Shivratri 2021 Kyu Khaas Hai

शिवरात्री महारात्रि मानी जाती है जब की लोग अपने मनोकामना को सिद्ध करने के लिए विभिन्न प्रकार के तांत्रिक प्रयोग भी करते हैं, तांत्रिक सिद्धि के लिए पूरी रात साधना करते हैं, अध्यात्मिक उन्नति को चाहने वाले भी इस रात्री का पूरा लाभ लेते हैं, ये रात्री सभी के लिए सिद्धि दायक होती है  |

अलग अलग मनोकामना को पूरी करने के लिए अलग अलग प्रकार से शिव पूजन करने का विधान पाया जाता है शाश्त्रो में |

ज्योतिष में राशि अनुसार भी लोग पूजाए कर सकते हैं. साधारणतः पंचामृत और आकड़े के फूल से पूजा आसानी से किया जा सकता है. 

आइये जानते हैं की किस प्रकार की मनोकामनाओ को पूरा करने के लिए लोग महाशिवरात्रि को पूजन कर सकते हैं ?

  1. जिनके विवाह में बहुत परेशानी आ रही है वे लोग अच्छे साथी पाने के लिए और विवाह समस्या का समाधान के लिए भगवन शिव की पूजा कर सकते हैं |
  2. अगर कोई काले जादू से ग्रस्त हो तो उनके लिए भी शिवरात्रि बहुत महत्त्वपूर्ण है , इस दिन विशेष प्रयोग करके बुरी शक्तियों से बचा जा सकता है |
  3. जिनके घर में प्रेत बाधा हो, वे लोग भी शिव रात्रि को पूजन करके घर को सुरक्षित कर सकते हैं |
  4. जिन पति पत्नियों के बीच लड़ाई झगडे बहुत होते हैं , वे लोग भी महाशिवरात्रि को शिवजी और पार्वतीजी का आशीर्वाद प्राप्त करके अपने जीवन को सुखी कर सकते हैं |
  5. जो लोग गंभीर रोगों से ग्रस्त हैं, वे लोग भी रोग मुक्ति के लिए अनुष्ठान कर सकते हैं या फिर करवा सकते हैं |
  6. जो लोग जीवन में सच्चे प्रेम की तलाश में है, वे लोग भी अपनी मनोकामका सिद्धि के लिए प्रयोग कर सकते हैं |
  7. कुंडली में ख़राब ग्रहों के कारण जीवन में परेशानी हो तो भी महाशिवरात्रि को पूजन करके लाभ लिया जा सकता है |
  8. शनि पीड़ा के कारण अगर संकटों ने घेर लिया हो तो ऐसे में भी शिवरात्री को संकट निवारण के लिए पूजन किया जा सकता है |

तो किसी भी समस्या के समाधान के लिए ये समय बहुत उपयोगी रहता है, हर कोई इस दिन का लाभ ले सकता है आसानी से |


2021 में शिवरात्रि का ज्योतिष महत्त्व, क्या करे भगवन शिव को प्रसन्न करने के लिए, राशि अनुसार शिव पूजा कैसे करे.



Watch Video here:

आइये जानते हैं 2021 में शिवरात्रि का ज्योतिष महत्त्व:

  • इस साल शिव-रात्रि 11 मार्च गुरुवार को मनेगी 
  • राहू और केतु उच्च के रहेंगे जिसके कारण जो लोग तंत्र साधना करते हैं उनके लिए विशेष फलदाई होगा २०२१ का शिवरात्रि |
  • शनि स्व राशी के रहेंगे जिसके कारण भी लोगो को बल मिलेगा साधना के लिए |
  • गुरु अपने नीच राशि में रहेंगे जो की ठीक नहीं रहेगा और कहीं ना कहीं किसी बाधा को उत्पन्न करेगा |
  • सूर्य भी अपने शत्रु राशि में रहेंगे जिसके कारण अधिकारी वर्ग को इस दिन कोई बड़ा निर्णय लेने से बचना चाहिए |
  • शुक्र शुभ रहेंगे जिसके कारण जो लोग विवाह के लिए , प्रेम में सफलता के लिए, संबंधो को सुधारने के लिए प्रयोग करना चाहते हैं, उन्हें सफलता मिलने के अच्छे योग बनेंगे |
  • राहू और मंगल साथ में रहेंगे जिसके कारण दुर्घटनाओं के योग बनते हैं अतः सभी को सावधानी भी बरतना होगी |

शिवरात्रि महारात्रियो में से एक है अतः सभी को इस दिन का लाभ अवश्य लेना चाहिए | अपनी क्षमता अनुसार शिव पूजन करना चाहिए. हमारा विश्वास और श्रद्धा ही शिव कृपा को हमारे जीवन मे लाएगी |

आइये जानते है राशी अनुसार कैसे शिवजी की पूजाए कर सकते हैं :

  1. मेष राशी के लोग गुड़ मिश्रित जल से शिवजी का अभिषेक कर सकते हैं और साथ ही लाल चन्दन , कनेर के पुष्प से शिव पूजा कर सकते हैं | मीठी रोटी का प्रसाद बाँट सकते हैं |
  2. वृषभ राशी के लोग दही से शिवलिंग का अभिषेक कर सकते हैं और साथ ही भात पूजा भी कर सकते हैं आकड़े के पुष्प भी अर्पित कर सकते हैं |
  3. मिथुन राशी के लोग गन्ने के रस और दूर्वा से शिव पूजा कर सकते हैं साथ ही कुशा और हरी मूंग का भी प्रयोग कर सकते हैं.
  4. कर्क राशी के लोग घी, शंक पुष्पि,  दूध आदि से शिव पूजा कर सकते हैं |
  5. सिंह राशी के लोग गुड़ के जल, गुड और चावल के खीर, गेहूं, मदार के पुष्प आदि का स्तेमाल शिव पूजन में कर सकते हैं |
  6. कन्या राशी के लोग गन्ने के रस , भांग, दूब , पान आदि से शिव पूजन कर सकते हैं |
  7. तुला राशी के लोग सुगन्धित इतर, दही, फलो के रस, श्रीखंड और सफ़ेद पुष्प से शिवजी की पूजा कर सकते हैं |
  8. वृश्चिक राशी वाले पंचामृत और लाल पुष्प से शिव पूजा कर सकते हैं शिव रात्नारी को | 
  9. धनु राशी वाले दूध, बेसन की मिठाई , गेंदे के फूल आदि से शिव पूजन कर सकते हैं |
  10. मकर राशी के लोग नारियल पानी, नीले फूल, उरद की दाल आदि का प्रयोग शिव पूजा मे कर सकते हैं |
  11. कुम्भ राशी वाले तिल के तेल, शमी पुष्प, उरद की दाल से बनी मिठाई आदि का प्रयोग शिव पूजा मे कर सकते हैं |
  12. मीन राशी वाले केसर और दूध, दही और चावल, पीले सरसों, नागकेसर आदि का प्रयोग शिव पूजा मे  कर सकते हैं |

नोट: शिवरात्रि पर लगातार मंत्रो का जप, व्रत रखना, शिव का ही ध्यान करना बहुत शुभ होता है.

इस दिन भक्तगण शिव महिमा, शिव कवच, शिवाष्टक, शिव मानस पूजा आदि का पाठ भी कर सकते हैं. 

अगर आप जानना चाहते हैं की आपके कुंडली के अनुसार कौन सी पूजा आपके लिए शुभ रहेगी तो आप संपर्क कर सकते हैं और जान सकते हैं अपने लिए बेस्ट प्रयोग महाशिवरात्रि के लिए |

ॐ नमः शिवाय

2021 में शिवरात्रि का ज्योतिष महत्त्व, क्या करे भगवन शिव को प्रसन्न करने के लिए, 2021 mahashivratri significance as per astrology, राशि अनुसार शिव पूजा कैसे करे.

No comments:

Post a Comment

Sun transit in virgo on 17 september 2021 read prediction

Surya badlelenge rashi 17 सितम्बर 2021 , शुक्रवार को, kanya sankranti ka prabhav kya hoga 12 rashiyo pe, sun Transit in september 2021, ...