best astrology services

Shani Jayanti Aur Amavasya Ka Mahattw

शनि जयंती महत्व, आसानी से कैसे करें शनि की पूजा, शनि जयंती पर शनि पूजा के लाभ, शनि जयंती का ज्योतिषीय महत्त्व, टोटके, का ज्योतिष।

शनि देव का सम्बन्ध न्याय से है और इसलिए लोग शनि से डरते हैं। शनि जयंती एक बहुत ही विशेष उत्सव है जब शनि देव के भक्त शनि देव के आशीर्वाद कोपाने के लिए विशेष अनुष्ठान करते हैं। यह दिन विशेष महत्व रखता है और इसलिए लोग शनि मंत्र का पाठ करते हैं, शनि देव का अभिषेक करते हैं, जरूरतमंदों की मदद के लिए चीजों का दान करते हैं, हवन करते हैं आदि ।

Shani Jayanti Aur Amavasya Ka Mahattw in hindi jyotish
Shani Jayanti Aur Amavasya Ka Mahattw

अंग्रेजी में शनि को  Saturn कहा जाता है और यह एक कठोर ग्रह है। यह संपत्ति, आंतरिक शरीर के अंगों, धातु, तेल, काला रंग, लोहा आदि से सम्बन्ध रखते है। ऐसा माना जाता है कि शनि भगवान सूर्य और उनकी पत्नी देवी छाया के पुत्र हैं।

शनि जयंती के शुभ दिन पर हम पूरे दिन शनि मंदिरों में भीड़ देख सकते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुंडली में शनि अशुभ है तो व्यक्ति को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है और इसलिए शनि जयंती पर विशेष पूजा करना अच्छा होता है।

मान्यता के अनुसार ज्येष्ठ मास की अमावस्या को शनि देव का जन्म हुआ था और इसलिए हर साल इस दिन भक्त शनिदेव का जन्मदिन बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं।

Watch video here:

वर्ष 2021 में शनि जयंती:

  • इस वर्ष शनि जयंती 10 जून 2021, गुरुवार को पड़ रही है और तिथि अमावस्या है, नक्षत्र रोहिणी होगा और गोचर कुंडली में शनि सकारात्मक रहेगा इसलिए जो लोग शनि देव को प्रसन्न करना चाहते हैं उनके लिए दिन बहुत महत्वपूर्ण है।
  • यदि कुंडली में शनि अशुभ या नीच का हो तो इस दिन को अनुष्ठान करने से न चूकें।
  • यदि कोई व्यक्ति बुरी नजर से प्रभावित है या काले जादू से ग्रस्त है तो छुटकारा पाने के लिए अनुष्ठान कर सकते हैं ।
  • अगर कुंडली में पितृ दोष है तो भी इस दिन को मिस न करें क्योंकि अमावस्या भी है।
  • गोचर कुंडली में ग्रहों की स्थिति अच्छी है जिससे इस दिन का लाभ पूरा पूरा लिया जा सकता है ।

अमावस्या के साथ शनि जयंती का महत्व

  1. 10 जून 2021 ज्योतिष के अनुसार जीवन को सफल बनाने के लिए शनि पूजा करने का सबसे अच्छा दिन है।
  2. बाधाओं को दूर करने और जीवन के पापों को कम करने के लिए भगवान शिव की पूजा करने के लिए भी यह दिन बहुत शुभ है।
  3. अमावस्या के साथ शनि जयंती जब एक साथ आती है तो कुंडली में पितृ दोष, कालसर्प दोष, प्रेत दोष वाले लोग भी इससे छुटकारा पाने के लिए अनुष्ठान कर सकते हैं।
  4. काला जादू के शिकार लोग इस दिन उतारा भी कर सकते हैं और खुद को बचाने के लिए प्रार्थना कर सकते हैं।
  5. यदि शनि की साढ़े साती जीवन को तनावपूर्ण बना रही है या कुंडली में शनि दोष है तो शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए इस दिन का उपयोग करना अच्छा है।
  6. हिंदू पौराणिक कथाओं में भी जीवन की समस्याओं को कम करने के लिए भगवान शिव की पूजा करने का सुझाव दिया गया है और इसलिए शनि जयंती के इस शुभ दिन अमावस्या के साथ शिव मंदिर में विशेष पूजा करना शुभ है।

सफल जीवन के लिए शनि देव को प्रसन्न करने के आसान तरीका:

  • सुबह जल्दी उठें और पूरे दिन ब्रह्मचर्य बनाए रखें।
  • यदि स्वास्थ्य ठीक है तो पूरे दिन उपवास रखने के लिए संकल्प लें और पूरा दिन मन्त्र जप, भजन, साधना करने में गुजारे |
  • शनिदेव की मूर्ति अपने सामने रखें और क्षमता अनुसार दीपक, धूप, भोग, दक्षिणा अर्पित करें।
  • पंचामृत से अभिषेक करें ।
  • आप किसी भी शनि मंत्र का जाप करते हुए तेल से भी अभिषेक कर सकते हैं।
  • शनि चालीसा या शनि स्तोत्र आदि का पाठ करें।
  • बाधा मुक्त जीवन के लिए प्रार्थना करें।
  • जरूरत की चीजों का दान करें।
  • अगर आपको कोई भूखा इंसान या जानवर मिले तो उसे खिलाएं।
  • पूरे दिन शनि मंत्र का जाप करने का प्रयास करें।

आइए अब जानते हैं जीवन को समस्याओं से मुक्त करने के कुछ आसान उपाय या टोटके:

जीवन में जो भी पीड़ित हैं, वे जीवन को अद्भुत बनाने के लिए ये टोटके कर सकते हैं।

  1. इस दिन शाम यानि 10 जून 2021 को शनि की चीजों से उतारा करके फिर इन चीजों को किसी पीपल के पेड़ के नीचे या बहती नदी में छोड़ दें। यह जीवन में अशुभ शनि के प्रभाव को कम करने में मदद करेगा।
  2. अगर आपके घर में दिन-प्रतिदिन कलह बढ़ रही है तो काली सरसों की धूप यानि की राई की धुप दे शाम को और फिर गुगल या लोबान से धूप दें। इससे नकारात्मकता दूर होगी।
  3. सुबह जल्दी उठकर शनि देव की पंचोपचार पूजा करें और शनि देव के 108 नामों का पाठ करें। अपने बेहतर जीवन के लिए प्रार्थना करें।
  4. आप पितृ शांति पूजा, कालसर्प शांति पूजा भी करवा सकते हैं।
  5. यदि आप पितरों को प्रसन्न करना चाहते हैं तो पितृ तर्पण प्रक्रिया करना न भूलें।
  6. अगर आपको इस दिन कोई गरीब बिना चप्पल के दिख जाए या फिर बिना वस्त्र के दिखे तो उन्हें चप्पल और वस्त्र भेंट करे |

भारत में शनि जयंती का बहुत महत्व है और इसमें कोई शक नहीं कि भक्तों को उनके समर्पण और अनुष्ठानो का फल मिलता है और इसलिए दशकों से अनुष्ठान चल रहे हैं।

शनि देव की कृपा से सभी का दुर्भाग्य दूर हो , यही कामना |

शनि जयंती महत्व, आसानी से कैसे करें शनि की पूजा, शनि जयंती पर शनि पूजा के लाभ, significance of shani jayanti  2021,   शनि जयंती का ज्योतिषीय महत्त्व, टोटके, का ज्योतिष।

No comments:

Post a Comment

Jyotish ke 9 khatarnaak yog jo barbaad kar sakte hain

Jyotish ke 9 khatarnaak yog jo barbaad kar sakte hain, 9 नुकसानदायक योग जो जीवन में संघर्ष पैदा करते हैं, जानिए कैसे बनते हैं ये योग कु...