Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2021

Navtapa kya hota hai kab se lagega

Nautapa kya hota hai, नौतपा कब से शुरू होंगे 2022 में, क्या करें और क्या न करें navtapa mai, 2022 में नौतपा कब से लगेगा?| Nautapa 2022 me 25 मई बुधवार से शुरू होंगे और 2 जून गुरुवार तक रहेंगे | नवतपा में गर्मी अत्यधिक बढ़ जाती है इसीलिए ऐसे में लोग अपने आपको ठंडा रखने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रयोग करते हैं | क्या होता है नवतपा ? जब सूर्य देव चन्द्रमा के नक्षत्र रोहिणी में प्रवेश करते हैं तब शुरू होता है नवतपा और ये स्थिति 9 दिन तक बनी रहती है, इसे ही नवतपा कहते हैं | मान्यता के अनुसार इन 9 दिनों में भीषण गर्मी होती है | कहा जाता है की नवतपा जितना तपता है उतनी ही अच्छी बारिश होती है |  Navtapa kya hota hai kab se lagega Read in english what is navtapa? Nautapa/नौतपा के दिनों में क्या करें और क्या न करें? इस समय सूर्य की सीधी किरने धरती पर पड़ती है जिसके कारण गर्मी बढ़ जाती है तो ऐसे में कुछ ध्यान रखना चाहिए : गर्मी ज्यादा पड़ने पर पैरो के तलवे पे मेहंदी लगाना चाहिए, इससे ठंडक रहती है| जब भी बाहर निकले तो शारीर को पूरा ढक के निकले | पानी, फलो के ताजा रस, गन्ने का रस आदि समय समय

Nagkesar Ke chamatkari Prayog jyotish anusar

नागकेशर   क्या है, जानिए ज्योतिष  में इस वनस्पति का महत्व, नागकेसर के टोटके,  जीवन की समस्याओं को दूर करने के लिए ज्योतिष में नागकेसर जड़ी बूटी का उपयोग कैसे करें,  समृद्धि के लिए नागकेसर के टोटके | Nagkesar Ke chamatkari Prayog jyotish anusar जड़ी-बूटियों में  नागकेशर एक बहुत ही शक्तिशाली और पवित्र जड़ी बूटी है। इसे अंग्रेजी में  Mesua ferrea भी कहते हैं। यह काली मिर्च की तरह लगता है। इसके फूल मेंहदी की तरह दिखते हैं। ज्योतिष और तांत्रिक प्रयोग  मेसुआ फेरिया या नागकेशर बहुत महत्व रखता है, इसे महादेव या भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए भी चढ़ाया जाता है। जब हम उपचारात्मक ज्योतिष के बारे में बात करते हैं तो इस वनस्पति का उपयोग कई समस्याओं को दूर करने के लिए किया जाता है, इसलिए इस लेख में मैं इस जादुई वनस्पति  के बारे में बात करेंगे | इस चमत्कारी जड़ी बूटी का उपयोग देवी लक्ष्मी, भगवान शिव को प्रसन्न करने और प्रेम जीवन और वैवाहिक जीवन की बाधाओं को दूर करने के लिए भी किया जाता है। यही नहीं इसका प्रयोग आयुर्वेद में भी बहुत किया जाता है, शीत से सम्बंधित बीमारियों को दूर करने के लिए इसक

August 2021 Mai Kaun Se Grah Badlenge Rashi

 Planets Transit in August 2021, Rashi Parivartan August 2021, किन ग्रहों में बदलाव होगा अगस्त 2021 में, क्या असर होगा 12 राशी वालो पर, जानिए राशिफल | वैदिक ज्योतिष के हिसाब से ग्रहों के परिवर्तन का पूरा असर हमारे जीवन पर पड़ता है और इसी कारण ज्योतिष प्रेमियों की निगाह इस पर रहती है की कब कौन सा ग्रह अपनी राशि और स्थिति बदलने वाला है |  August 2021 Mai Kaun Se Grah Badlenge Rashi इस लेख में हम जानेंगे की अगस्त 2021 में कौन से ग्रह अपनी राशि बदलने वाले है और उसका असर क्या होने वाला है 12 राशी वाले लोगो के जीवन पर साथ ही वातावरण पर, किनको मिलेगा लाभ, किनके जीवन में होगी उथल पुथल | आइये जानते हैं अगस्त में कौन कौन से ग्रह बदलने वाले है राशी : अगस्त 2021 में 4 ग्रह अपनी राशि बदलेंगे जिसका पूरा असर हमे बाजार पर और लोगो की जिन्दगी में देखने को मिलेगा | कुछ लोगो को नौकरी मिलेगी, कुछ को तरक्की मिलेगी, कुछ को जीवन साथी मिलेगा, कुछ लोगो को प्रेम जीवन में सफलता मिलेगी आदि |  9 अगस्त 2021, सोमवार को बुध का सिंह राशि में गोचर होगा  11 अगस्त 2021 बुधवार को शुक्र का कन्या राशि में गोचर होगा  17

Shatru Nash Prayog

शत्रु से कैसे बचे, how to protect ourselves from enemy attack, क्या करे अगर शत्रु कलि शक्तियों का प्रयोग करता हो, ज्योतिष से कैसे पता लगाए की शत्रु के द्वारा परेशानी का सामना करना पड़ेगा | जीवन में शत्रु समस्या बहुत घातक और परेशां करने वाला होता है । सफलता के मार्ग में शत्रु के आक्रमण का भय सदैव ही बाधा उत्पन्न करता रहता है | भय तब अधिक होता है जब गुप्त आक्रमण की सम्भावना हो अर्थात शत्रु द्वारा काली विद्या या नकारात्मक शक्तियों का प्रयोग करने की सम्भावना हो। छिपे हुए हमले अधिक खतरनाक होते हैं और उनके परिणाम भी अप्रत्याशित होते हैं.   Shatru Nash Prayog शत्रु के आक्रमण का मुख्य कारण ईर्ष्या, श्रेष्ठ बनने की इच्छा, स्वयं को महान दिखाने की इच्छा, वासना की पूर्ति आदि होता है । दो मुख्य प्रकार के शत्रु होते हैं जैसे भौतिक शत्रु और छिपे हुए शत्रु। भौतिक शत्रुओं से निपटना आसान है लेकिन छिपे हुए शत्रुओं से निपटना इतना आसान नहीं है। क्योंकि वो हमारे सामने खुलकर नहीं होते हैं | आइये अब जानते हैं शत्रु के आक्रमण के कारणों को - व्यापार में आगे निकलने की होड़  ईर्ष्या के कारण  प्रेमी को किसी भी

Sawan Mahine Ke liye Chamatkari Prayog

श्रावण मास के टोटके, जीवन को सफल बनाने के सर्वोत्तम उपाय, स्वास्थ्य, धन और समृद्धि के लिए शिव पूजा, सावन महीने में रुद्राभिषेक का महत्व , कालसर्प दोष निवारण के लिए पूजा, पितृ दोष निवारण के लिए शिव पूजा श्रावण मास शिव मंदिरों में पूजा करने के लिए सबसे अच्छे महीनों में से एक है। सावन का महीना शिव का अनुकूल महीना है और इसलिए भक्त भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए विभिन्न प्रकार के अनुष्ठान करते हैं। कुछ जादुई आसान टोटके अपनाकर हम अपने जीवन को बाधा मुक्त बना सकते हैं। Sawan Mahine Ke liye Chamatkari Prayog भगवान शिव को भोलेनाथ भी कहा जाता है और वे भक्तों को आसानी से आशीर्वाद देते हैं। सबसे खास बात यह है कि भोलेनाथ की पूजा करने के लिए हमें किसी खास चीज की जरूरत नहीं होती है। सावन के महीने में शिव पूजा का विशेष महत्व है। श्रावण मास में नियमित रूप से पूजा करने वाले भक्त की हर मनोकामना शिवजी पूरी करते हैं। हिंदी ज्योतिष के अनुसार श्रावण मास में पड़ने वाले सोमवार बहुत शुभ होते हैं और श्रावण सोमवार की पूजा आसानी से भगवान शिव की कृपा को आकर्षित करती है। Watch Video here: आइए जानते हैं श्राव

Guru poornima ka mahattw in hindi jyotish

 क्या है गुरु पूर्णिमा?, गुरु पूर्णिमा का महत्व, गुरु पूर्णिमा पर क्या करें सफलता के लिए?, गुरुपूर्णिमा 2021, ज्योतिष के अनुसार सफलता के लिए गुरु पूर्णिमा पर क्या करें? Guru poornima ka mahattw in hindi jyotish 2021 गुरु पूर्णिमा: इस वर्ष गुरु पूर्णिमा 23  और 24 जुलाई को मनाई जायेगी अलग अलग मान्यता के अनुसार |गुरु पूर्णिमा की वास्तविक पूर्णिमा रात की 23 तारीख को होगी क्यूंकि 23 तारीख को सुभ लगभग 10:45 मिनट पे पूर्णिमा तिथि लग जायेगी । गुरु पूर्णिमा उन सभी के लये विशेष महत्व रखता है जो गुरु के महत्त्व को समझते हैं | आइए समझते हैं गुरु पूर्णिमा: गुरु पूर्णिमा आध्यात्मिक गुरुओं के प्रति आभार प्रकट करने का दिन है। यह दिन ऋषि वेद व्यास द्वारा निश्चित किया गया था गुरुओ की विशेष पूजन और धन्यवाद अर्पण के लिए क्यूंकि गुरु ही है जो सच्चा ज्ञान देते हैं | गुरु वह शक्ति है  जो हमें सही रास्ता दिखाते हैं और हमें यह भी सिखाते है कि कैसे अपने वास्तविक गंतव्य तक सफलतापूर्वक पहुंचा जाए। गुरु एक ऐसी ज्शवलंत शक्ति है जो शिष्य को एक शक्तिशाली और पूर्ण व्यक्तित्व प्रदान करते हैं जो की पूरे विश्

Saawan Mahine Ka Mahattw in hindi jyotish

2021महत्व का श्रावण मास, सावन मास , सफलता के लिए क्या करें , कुछ आसान प्रयोग, श्रावण सोमवार का महत्व | इस वर्ष 2021 में 'श्रवण मास'25 जुलाई, रविवार से शुरू होकर 22 अगस्त, रविवार तक रहेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस दौरान 'श्रवण तारा ' आकाश में शक्तिशाली रहता है और इसलिए इन दिनों को श्रावण मास कहा जाता है | साधना की दृष्टि से यह महिना बहुत महत्वपूर्ण है और इसलिए श्रावण मास में बहुत ही महत्वपूर्ण पर्व आते हैं। Saawan Mahine Ka Mahattw in hindi jyotish यह महीना भगवान शिव को समर्पित है और इसलिए दुनिया में हर जगह भक्त जीवन को सफल बनाने के लिए शिव को प्रसन्न करने के लिए शिव आराधना करते हैं। श्रावण मास में कांवड़ यात्रा भी बहुत लोकप्रिय है, इसमें भक्त पवित्र नदी से जल लेते हैं और फिर शिवलिंग का अभिषेक करते हैं। इसे बहुत ही शुभ बताया गया है। श्रावण मास का धार्मिक महत्व: ऐसी मान्यता है कि हिंदू पंचांग के अनुसार श्रावण के महीने में समुंद्र मंथन हुआ था और भगवान शिव ने इस महीने में इस मंथन में निकले हलाहल विष को अपने कंठ पे धारण किया और ब्रह्मांड को बचाया। हलाहल विष को ग्र

Devshayani Ekadashi Ka Mahattwa in Hindi jyotish

देव शयनी एकादशी का महत्व, पद्मा एकादशी का महत्व, significance of dev shayni ekadashi, हरि शयनी ग्यारस, देव शयनी एकादशी का अर्थ, इस दिन ग्रहों की स्थिति। देव शयनी एकादशी 20 जुलाई 2021, मंगलवार को पड़ रही है। Devshayani Ekadashi Ka Mahattwa in Hindi jyotish आषाढ़ शुक्ल पक्ष का ग्यारहवां दिन भारत में विशेष रूप से हिंदुओं में बहुत लोकप्रिय है। मान्यता है कि इस दिन से भगवान विष्णु क्षीर सागर में शयन करने लगते हैं। विभिन्न क्षेत्रों में लोग इस एकादशी को पद्मा एकादशी, प्रथमा एकादशी, देव शयनी एकादशी, हरि शयनी एकादशी आदि के नाम से जानते हैं। इस दिन भगवान विष्णु या वासुदेव के भक्त पूरे दिन और रात उपवास रखते हैं और खुद को मंत्र जप, अनुष्ठान आदि में संलग्न रखने का प्रयास करते हैं। इस दिन से चातुर्मास की शुरुआत भी होती है, जिसका अर्थ है आध्यात्मिक विकास प्राप्त करने के लिए विशेष अनुष्ठान करने के लिए 4 महीने। साल 2021 में हरि शयनी एकादशी 20 जुलाई, मंगलवार को आ रही है। मान्यता के अनुसार यह एकादशी का दिन तब अस्तित्व में आया जब राजा मंदाता ने ऋषि अंगिरा से सलाह लेने के बाद इस दिन उपवास और अनुष्ठा

Vashiakran kya hota hai

 वशीकरण क्या है, what is vashikaran,इस सम्मोहन विज्ञान का उपयोग करने के फायदे और नुकसान, वशीकरण मंत्र पयोग करते समय सावधानियां।  क्या आप किसी विशेष गूढ़ विज्ञान के बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं जिसका उपयोग दूसरों को आकर्षित करने के लिए किया जाता है, किसी के मन में जगह बनाने के लिए किया जाता है ? Vashiakran kya hota hai क्या आप जानना चाहते हैं कि वशीकरण साधना कैसे करते हैं  और इस अभ्यास को करते समय सावधानियां क्या रखनी चाहिए? प्राचीन काल में गूढ़ विज्ञान के कुछ विद्वानों में एक विशेष शक्ति विद्यमान थी जिसके द्वारा वे जिसे चाहें अपनी ओर आकर्षित कर लेते थे। किसी व्यक्ति को या अन्य किसी शक्ति को,  आकर्षित करने की इस शक्ति को वशीकरण कहा जाता है, लेकिन वे इस कार्य को केवल मनुष्य की भलाई के लिए और विभिन्न प्रकार के ज्ञान प्राप्त करने के लिए करते थे। लेकिन आजकल लोग इस अद्भुत विषय का उपयोग भौतिक इच्छाओं को पूरा करने के लिए कर रहे हैं, अपनी काम वासना को पूरा करने के लिए कर रहे हैं जो किसी काम का नहीं हैं। वशीकरण विज्ञान इस दुनिया का आनंद लेने के लिए संतों और भगवान शिव का उपहार है। किसी को अपन