best astrology services

Ashadh Gupt Navratri 11 July to 18 juy 2021 janiye mahattw

गुप्त नवरात्री कब शुरू होगी 2021 में , अषाढ़ महीने की नवरात्री का महत्त्व, घट स्थापना महुरत, ग्रहों की स्थिति कैसी रहेगी, कौन सी साधना कर सकते हैं , गुप्त नवरात्री में सफलता के लिए किन बातो का ध्यान रखना चाहिए |

11 जुलाई 2021, दिन रविवार से अषाढ़ महीने की नवरात्री शुरू होगी जिसे की हम सभी गुप्त नवरात्री के नाम से जानते हैं |

Ashadh Gupt Navratri 11 July to 18 juy 2021 janiye mahattw
Ashadh Gupt Navratri 11 July to 18 juy 2021 janiye mahattw

अब सबसे महत्त्वपूर्ण सवाल ये है की ये नवरात्री गुप्त क्यों कहलाती है तो इसीलिए क्यूंकि इस  नवरात्री में जानकार लोग अपनी मनोकामना को पूरी करने के लिए गुप्त रूप से साधना करते हैं और वे सफल भी होते हैं क्यूंकि अषाढ़ महीने की नवरात्री बहुत शक्तिशाली होती है  और 2021 जुलाई में शुरू होने वाले गुप्त नवरात्री तो बहुत ज्यादा महत्त्व रखती है क्यूंकि इस बार हमे ग्रहों का बहुत अच्छा योग मिलने वाला है जिससे साधको को बहुत ज्यादा लाभ मिलेगा |

आइये अब जानते हैं की घट स्थापना कब कर सकते हैं 11 तारीख को ?

घट स्थापना प्रतिपदा तिथि को होती है और ११ को प्रतिपदा तिथि लगभग सुभ 10:25 मिनट तक रहेगी तो घट स्थापना अगर सुबह 9 से 10:25 तक किया जाए तो सबसे अच्छा रहेगा |

Watch video here:

आइये जानते हैं ज्योतिष के हिसाब से 2021 के अषाढ़ महीने की गुप्त नवरात्री का महत्त्व :

  1. इस बार गुप्त नवरात्री 11 जुलाई, रविवार से शुरू होगी और इस दिन रवि पुष्य का महायोग भी रहेगा जिससे जो लोग इस दिन से कोई विशेष ईच्छा को लेके साधना शुरू करेंगे वो अवश्य ही सफल होंगे |
  2. नवरात्री की शुरुआत में चन्द्रमा अपने स्व राशी में रहेंगे जिससे की हम सभी को और बल मिलेगा अपने संकल्पों को पूरा करने के लिए |
  3. शनि अपने स्व राशि में रहेंगे जिससे की अध्यात्मिक अभ्यास करने वालो को लाभ मिलेगा |
  4. राहू और केतु उच्च के रहेंगे जिससे तंत्र साधना करने वालो को लाभ मिलेगा |
  5. यही नहीं सूर्य और बुध का साथ रहने पर बुधादित्य योग भी बना रहेगा जिससे हम सभी को बहुत फायदा होगा |
  6. ये नवरात्री नाम, यश, शक्ति प्राप्त करने के लिए काफी ज्यादा सहायक रहेगी |

आइये अब जानते हैं की किन किन मनोकामना को पूरी करने के लिए हम अनुष्ठान कर सकते हैं या करवा सकते हैं अषाढ़ महीने की गुप्त नवरात्री में 11 जुलाई से 18 जुलाई 2021 तक :

  1. नवरात्री दश महाविद्या और देवी के नौ रूपों की पूजा करने के लिए सबसे शक्तिशाली समय होता है| कोई भी जातक जो विशेष शक्तियों को हासिल करना चाहते हैं या फिर कोई मनोकामना पूरी करना चाहते हैं, वे गुप्त नवरात्री में साधना कर सकते हैं या फिर पूजा अनुष्ठान करवा सकते हैं |
  2. अगर कुंडली में किसी ग्रह के कारण बहुत परेशानी आ रही है तो ऐसे में ग्रह शांति पूजा गुप्त नवरात्री में हो सकती है |
  3. अगर नौकरी नहीं मिल रही है तो ऐसे में अपने कुल देवी या फिर माँ दुर्गा की आराधना करके उनका आशीर्वाद प्राप्त किया जा सकता है |
  4. अगर विवाह नहीं हो पा रहा हो तो भी मनचाहा वर प्राप्त करने के लिए माता की आराधना कर सकते हैं |
  5. अगर किसी पे काला जादू किया गया हो तो ऐसे में नवरात्री में शक्तिशाली पूजाए होती है बचने के लिए |
  6. अगर लम्बे समय से कोई काम नहीं बन रहा हो तो ऐसे में भी आप भगवती की आराधना करके अपनी मनोकामना को पूरी कर सकते हैं |
  7. जो लोग गुरु से दीक्षित है उन्हें मन लगा की पूरी तल्लीनता से गुप्त नवरात्री में गुरु मन्त्र को जपना चाहिए, गुरु मन्त्र समस्त मनोकामना को पूरी करने में पूर्ण समर्थ है, इसमें कोई शक नहीं |

आइये अब जानते हैं कुछ आसान प्रयोग गुप्त नवरात्री में करने के लिए :

  • अगर आपके पास समय हो तो आप रोज दुर्गा शप्तशती का पाठ कर सकते हैं, इसका विधि विधान पूरा किताब में दिया रहता है | उसके अनुसार आप पाठ कर सकते हैं | परन्तु नवमी के दिन कन्या भोज जरुर करवाए और उन्हें अन्न, वस्त्र, दक्षिणा दे के प्रसन्न करे और उनका आशीर्वाद जरुर ले |
  • अगर आप बुरी नजर से परेशां है, शत्रु कुछ ना कुछ टोटके करते रहते हैं आपके ऊपर तो ऐसे में दुर्गा कवच का पाठ रोज करे ज्यादा से ज्यादा अपनी क्षमता अनुसार और सुरक्षा के लिए प्रार्थना करे , पाठ करने के समय धुप और दीप अवश्य जला के रखे |
  • अगर व्यापार में तरक्की करना चाहते हैं तो आपको गुप्त नवरात्री में एक भोज पत्र पर नाग केसर से स्वस्तिक बना के उसकी पूरी नवरात्री में लक्ष्मी मंत्रो से पूजा करके उसे फिर तिजोरी में रख देना चाहिए |
  • अगर आपके वैवाहिक जीवन में परेशानी आ रही हो तो ऐसे में माता को श्रृंगार का सामान अर्पित करे और सौभाग्य के लिए प्रार्थना करे |
  • अध्यात्मिक उन्नति चाहने वालो को अपने गुरु मन्त्र या फिर ईष्ट मन्त्र का जप करना चाहिए |
  • जो लोग जीवन में हर क्षेत्र में परास्त हो रहे हैं उन्हें देवी के नवार्ण मन्त्र का जप करना चाहिए | मन्त्र है (ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे ) | इस बात का ध्यान रखे की जप मानसिक नहीं करना है |
  • विद्यार्थियों को गुप्त नवरात्रि में माँ सरस्वती के मन्त्र का जप अधिक से अधिक करना चाहिए पीले ऊनि आसन पे बैठ के |
  • वशीकरण साधनाए भी गुप्त नवरात्री में सफल होती है |

तो आप अपनी किसी भी मनोकामना को पूरी करने के लिए गुप्त नवरात्री में साधना कर सकते हैं या फिर अनुष्ठान करवा सकते हैं |

गुप्त नवरात्री में किसी भी अनुष्ठान को करने या करवाने के समय कुछ विशेष बातो का ध्यान रखना चाहिए :

  1. पूजा की गोपनीयता बना के रखे |
  2. किसी को आपसे किसी भी प्रकार से दुःख ना पंहुचे |
  3. किसी भी प्रकार की हिंसा ना करे |
  4. अपने आपको काम वासना से दूर रखें |
  5. सात्विक भोजन करे |
  6. किसी भी नशे से अपने आपको दूर रखें |
  7. मांसाहार का प्रयोग ना करे |
  8. जितना हो सके मौन का पालन करे |

तो कुछ बातो को ध्यान में रखके आप अपनी साधना में सफलता प्राप्त कर सकते हैं | 

तो 11 जुलाई  से 18 जुलाई 2021 तक अषाढ़ महीने की गुप्त नवरात्री में अपनी मनोकामना को पूरी करने के लिए देवी की आराधना करे |

अगर आप जानना चाहते हैं की आपकी कुंडली के अनुसार आपके लिए कौन सी साधना उपयुक्त रहेगी तो आप उसके लिए ज्योतिष से संपर्क कर सकते हैं |

  • जानिए कौन सा यन्त्र शुभ रहेगा ?
  • कैसे दूर करें दुर्भाग्य को ?
  • कौन सा रत्न जगायेगा भाग्य ?
  • कौन सी पूजा शुभता लाएगी जीवन में |
Ashadh Gupt Navratri 11 July to 18 juy 2021 janiye mahattw
Ashadh Gupt Navratri 11 July to 18 juy 2021 janiye mahattw

गुप्त नवरात्री कब शुरू होगी, अषाढ़ महीने की नवरात्री का महत्त्व, gupt navratri in july 2021 significance, घट स्थापना महुरत, ग्रहों की स्थिति कैसी रहेगी, कौन सी साधना कर सकते हैं , गुप्त नवरात्री में सफलता के लिए किन बातो का ध्यान रखना चाहिए |

No comments:

Post a Comment

Nagkesar Ke chamatkari Prayog jyotish anusar

नागकेशर   क्या है, जानिए ज्योतिष  में इस वनस्पति का महत्व, नागकेसर के टोटके,  जीवन की समस्याओं को दूर करने के लिए ज्योतिष में नागकेसर जड...