Skip to main content

Posts

Showing posts from August, 2021

Astrology website

Vedic astrology services || Horoscope Reading || Kundli Analysis || Birth Chart Calculation || Pitru Dosha Remedies || Love Life Reading || Solution of Health Issues in jyotish || Career Reading || Kalsarp Dosha Analysis and remedies || Grahan Dosha solutions || black magic analysis and solutions || Best Gems Stone Suggestions || Rashifal || Predictions || Best astrologer || vedic jyotish || Online jyotish || Phone astrology ||

Useful astrology Tips

om kleem krishnaay namah mantr ke fayde

om kleem krishnaya namah mantra ke fayde, ॐ क्लीं कृष्णाय नमः मंत्र कब जपना चाहिए, जानिए कृष्ण वशीकरण मन्त्र के फायदे, किन नियमो का पालन करना चाहिए जप के समय |    अगर जीवन में बार बार असफलता मिल रही है, नौकरी में परेशानी आ रही है, प्रेम जीवन में असफल हो रहे हैं, समाज में मान –सम्मान नहीं मिल पा रहा है, घर में क्लेश रहता है तो ऐसे में कृष्ण वशीकरण मन्त्र का जप बहुत फायदेमंद होता है |  इस मन्त्र में माँ काली और कृष्ण, दोनों की शक्ति समाहित है इसीलिए जपकर्ता को बहुत फायदा होता है | om kleem krinaay namah mantr ke fayde धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष को देने में समर्थ ये मन्त्र ॐ क्लीं कृष्णाय नमः अती उत्तम मंत्रो में से एक है | इस मन्त्र की सिद्धि से जपकर्ता अध्यात्मिक और भौतिक दोनों सुखो को प्राप्त कर सकता है |  श्री कृष्ण भगवान 64 कलाओं में निपुण थे और उनकी माया से सभी परिचित है अतः उनकी कृपा हो जाए तो क्या संभव नहीं हो सकता |  Read in english about om kleem krishnaay namah spell benefits   " ॐ क्लीं कृष्णाय नमः " एक चमत्कारिक मन्त्र है और जप करने वाले को जप के दौरान भी दिव्य अन

Phone Astrologer for consultation

Phone Astrologer for consultation If you want to discuss your horoscope on phone then here you can talk to one of the best vedic  jyotish in india Dr. om prakash. He has more than 20+ years of experience in astrology, vastu, numerology, black magic healing etc. and guiding people all around the world through email, phone and WhatsApp.  One can discuss with astrologer regarding love life problems, marriage issues, career confusion, black magic problems, health issues etc on phone, email and WhatsApp.  For this, please visit the CONSTACT US PAGE and you will get the process of consultation.  You must need the correct birth details for horoscope analysis i.e. you must provide date of birth, time of birth, place of birth.  Vedic astrology science is used for decades to know about future events, power points, best periods of life, best time to take specific actions etc. The tips provided by astrologer will certainly help you to make a different place in society, work place, family.  S

rakshabandhan 2021 mahurat vedic astrology tips

Rakshabandhan 2021 date, shubh mahurat, kab bandhe rakhi,  The most awaiting festival by brothers and sisters is Raksha bandhan, this is the day when sister ties a holy thread on the wrist of brother and pray for his good health and prosperous life.  rakshabandhan astrology Every Indian celebrates this day all over the world with joy and enthusiasm.  Lets know when is the raksha bandhan in 2021 as per vedic astrology? In this year, rakhi festival will be celebrated on 22nd of august, Sunday. As per hindu calendar, this is the day of shrawan month poornima. As per vedic culture, saawan month is very auspicious and is dedicated to lord shiva and so very important festivals comes in saawan month like naag panchmi, rakshabandhan, krishn janmashtmi and so on.  There is a special bond between brother and sister and on rakshabandhan day both express there feelings in the form of special process i.e. sister ties a holy thread on brother’s wrist and brother please her sister with gifts.

Naagpanchmi Mai Kaise dur kare durbhagya ko

Nagpanchmi ko kaise dur kare durbhagya ko, क्यों ख़ास होती है श्रावण महीने में आने वाली नागपंचमी, ज्योतिषीय महत्त्व | सन 2021 में नागपंचमी 13 अगस्त, शुक्रवार को आ रही है जो की लोगो के व्यक्तिगत जीवन में से परेशानियों को दूर करने के लिए  बहुत ही अच्छा दिन है | Naagpanchmi Mai Kaise dur kare durbhagya ko जब कुंडली में राहू और केतु के कारण दोष उत्पन्न होता है तो ऐसे में नागपंचमी की पूजा बहुत फायदेमंद होती है जैसे कुंडली में अगर कालसर्प योग बने, राहू शत्रु का हो, महादशा या अन्तर्दशा में राहू चल रहा हो तो ऐसे में नागपंचमी की पूजा बहुत ही फायदेमंद साबित होती है | हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रावण महीने की अमावस्या के पांचवे दिन नागपंचमी का महत्वपूर्ण दिन आता है जब हम नाग देवत की पूजा करते है ताकि वो जीवन में से बाधाओं को हर सके | ऐसा माना जाता है की जिस पर नागदेवता की कृपा हो जाए उसे अपार धन ,संपत्ति की प्राप्ति सहज रूप से हो जाती है और शत्रु भी आसानी से परास्त हो जाते हैं | आइये जानते हैं की नाग पंचमी के हम कौन कौन सी पूजाए करवा सकते हैं या कर सकते हैं ? अगर जीवन में कालसर्प योग के कारण