Skip to main content

aanewale saptah ka panchang aur rashifal

Upcoming panchang and rashifal, 16 january to 22 january 2022 predictions , किन राशी वालो का भाग्य चमकेगा इस सप्ताह, साप्ताहिक राशिफल, जानिए कौन से महत्त्वपूर्ण दिन मिलेंगे आने वाले सप्ताह में | इस सप्ताह कोई  भी सर्वार्थ सिद्धि के योग नहीं मिलेंगे  aanewale saptah ka panchang aur rashifal आइये अब जानते हैं की आने वाले सप्ताह में कौन कौन से महत्त्वपूर्ण दिन मिलेंगे हमे : शाकम्भरी पूर्णिमा 17 जनवरी,  2022, सोमवार को है | पुष्य नक्षत्र 18 , मंगलवार को रहेगा | कृष्ण पक्ष का गणेश चतुर्थी व्रत 21 जनवरी, शुक्रवार को है | पढ़िए नए साल 2022 राशिफल वैदिक ज्योतिष अनुसार   जानिए अंक ज्योतिष अनुसार आने वाला साल 2022 कैसा रहेगा   आइये अब जान लेते हैं किन राशि वालो के जीवन में ज्यादा बदलाव नजर आ सकता है 16 जनवरी 2022  से 22 जनवरी 2022 के बीच : : सप्ताह के शुरुआत में : सप्ताह के शुरुआत में मिथुन और धनु राशि वालो को लाभ मिलेगा | मिथुन राशि   वालो की रचनात्कामकता बढ़ेगी, जो लोग विवाह करना चाहते हैं , उन्हें साथी मिलने के योग प्रबल बनेंगे| आप अपने जीवन साथी के साथ अच्छा समय बिता पायेंगे | मिथुन राशि

Sapt Rishi Kaun Hai

 ऋषि मुनि कौन होते हैं, सप्तऋषि कौन है, क्या योगदान है सप्त ऋषियों का |

ऋषि मुनियों के बिना भारत की कल्पना नहीं की जा सकती है, ये ही वो महान लोग है जिन्होंने अपने शोध से भारत को अध्यात्मिक गुरु बनाया, इन्ही की दें है की आज हम जीवन को सहस रूप से जी पा रहे हैं |

जीवन का ऐसा कोई विषय नहीं जिसपे ऋषि मुनियों ने शोध नहीं किया है | विभिन्न धर्म ग्रंथो में, इनके शोध मौजूद है हम वेद , उपनिषद कहते हैं | 

अगर ऋषि मुनियों के जीवन शैली की बात करें तो ये अपना पूरा जीवन जंगल में एकांत में साधना करते हुए, शिक्षा देते हुए बिताते थे | आज भी ऐसे ऋषि हमे देखने को मिलते हैं, हिमालय में और अन्य तीर्थ स्थलों में | 

ऋषि मुनि कौन होते हैं, सप्तऋषि कौन है, क्या योगदान है सप्त ऋषियों का, sapt rishi kaun hai, inka kya yogdaan hai |
Sapt Rishi Kaun Hai

आइये अब जानते हैं सप्त ऋषियों के बारे में :

विष्णु पुराण अनुसार इस मन्वन्तर के सप्तऋषि इस प्रकार है :-

वशिष्ठकाश्यपो यात्रिर्जमदग्निस्सगौत।

विश्वामित्रभारद्वजौ सप्त सप्तर्षयोभवन्।।

अर्थात् सातवें मन्वन्तर में सप्तऋषि इस प्रकार हैं:- वशिष्ठ, कश्यप, अत्रि, जमदग्नि, गौतम, विश्वामित्र और भारद्वाज।

1. आइये जानते हैं वशिष्ठ ऋषि का योगदान :

वशिष्ठ ऋषि, राजा दशरथ के कुलगुरु थे और उनके चार पुत्रो के गुरु भी थे, वशिष्ठ जी के कहने पर राजा दशरथ ने अपने चारों पुत्रों को ऋषि विश्वामित्र के साथ आश्रम में राक्षसों का वध करने के लिए भेज दिया था। 

वशिष्ठ_ऋषि ऋग्वेद के मंत्रद्रष्टा और गायत्री मंत्र के महान साधक वशिष्ठ सप्तऋषियों में से एक थे। उनकी पत्नी अरुंधती वैदिक कर्मो में उनकी सहभागी थीं।

2. आइये जानते हैं कश्यप ऋषि का योगदान :

कश्यप_ऋषि मारीच ऋषि के पुत्र और आर्य नरेश दक्ष की १३ कन्याओं के पुत्र थे। स्कंद पुराण के केदारखंड के अनुसार, इनसे देव, असुर और नागों की उत्पत्ति हुई, हिन्दू मान्यता अनुसार इनके वंशज ही सृष्टि के प्रसार में सहायक हुए।।

3.आइये जानते हैं विश्वामित्र ऋषि का योगदान :

विश्वामित्र ऋषि होने के पूर्व विश्वामित्र राजा थे और ऋषि वशिष्ठ से कामधेनु गाय को हड़पने के लिए उन्होंने युद्ध किया था, लेकिन वे हार गए। इस हार ने ही उन्हें घोर तपस्या के लिए प्रेरित किया। विश्वामित्र की तपस्या और मेनका द्वारा उनकी तपस्या भंग करने की कथा जगत प्रसिद्ध है। विश्वामित्र ने अपनी तपस्या के बल पर त्रिशंकु को सशरीर स्वर्ग भेज दिया था। ऐसा माना जाता है की आज जहां शांतिकुंज हैं उसी स्थान पर विश्वामित्र ने घोर तपस्या करके इंद्र से रुष्ठ होकर एक अलग ही स्वर्ग लोक की रचना कर दी थी।

विश्वामित्र_ऋषि गायत्री मंत्र का ज्ञान देने वाले , वेदमंत्रों के सर्वप्रथम द्रष्टा माने जाते हैं। आयुर्वेदाचार्य सुश्रुत इनके पुत्र थे। विश्वामित्र की परंपरा पर चलने वाले ऋषियों ने उनके नाम को धारण किया। यह परंपरा अन्य ऋषियों के साथ भी चलती रही।

4.आइये जानते हैं भारद्वाज ऋषि का योगदान :

वैदिक ऋषियों में भारद्वाज-ऋषि का उच्च स्थान है। भारद्वाज के पिता बृहस्पति और माता ममता थीं। भारद्वाज ऋषि राम के पूर्व हुए थे, लेकिन एक उल्लेख अनुसार उनकी लंबी आयु का पता चलता है कि वनवास के समय श्रीराम इनके आश्रम में गए थे, जो ऐतिहासिक दृष्टि से त्रेता-द्वापर का सन्धिकाल था। माना जाता है कि भरद्वाजों में से एक भारद्वाज विदथ ने दुष्यन्त पुत्र भरत का उत्तराधिकारी बन राजकाज करते हुए मन्त्र रचना जारी रखी।

ऋषि भारद्वाज के पुत्रों में १० ऋषि ऋग्वेद के मन्त्रदृष्टा हैं और एक पुत्री जिसका नाम 'रात्रि' था, वह भी रात्रि सूक्त की मन्त्रदृष्टा मानी गई हैं। ॠग्वेद के छठे मण्डल के द्रष्टा भारद्वाज ऋषि हैं। इस मण्डल में भारद्वाज के ७६५ मन्त्र हैं। अथर्ववेद में भी भारद्वाज के २३ मन्त्र मिलते हैं। 'भारद्वाज-स्मृति' एवं 'भारद्वाज-संहिता' के रचनाकार भी ऋषि भारद्वाज ही थे। ऋषि भारद्वाज ने 'यन्त्र-सर्वस्व' नामक बृहद् ग्रन्थ की रचना की थी। इस ग्रन्थ का कुछ भाग स्वामी ब्रह्ममुनि ने 'विमान-शास्त्र' के नाम से प्रकाशित कराया है। इस ग्रन्थ में उच्च और निम्न स्तर पर विचरने वाले विमानों के लिए विविध धातुओं के निर्माण का वर्णन मिलता है। ये आयुर्वेद के ऋषि थे तथा धन्वंतरि इनके शिष्य थे।

5. आइये जानते हैं अत्रि ऋषि का योगदान :

अत्रि_ऋषि  सप्तर्षियों में एक ऋषि अत्रि ऋग्वेद के पांचवें मंडल के अधिकांश सूत्रों के ऋषि थे। वे चंद्रवंश के प्रवर्तक थे। महर्षि अत्रि आयुर्वेद के आचार्य भी थे।

महर्षि अत्रि ब्रह्मा के पुत्र, सोम के पिता और कर्दम प्रजापति व देवहूति की पुत्री अनुसूया के पति थे। अत्रि जब बाहर गए थे तब त्रिदेव अनसूया के घर ब्राह्मण के भेष में भिक्षा मांगने लगे और अनुसूया से कहा कि जब आप अपने संपूर्ण वस्त्र उतार देंगी तभी हम भिक्षा स्वीकार करेंगे, तब अनुसूया ने अपने सतित्व के बल पर उक्त तीनों देवों को अबोध बालक बनाकर उन्हें भिक्षा दी। माता अनुसूया ने देवी सीता को पतिव्रत का उपदेश दिया था।

अत्रि ऋषि ने इस देश में कृषि के विकास में पृथु और ऋषभ की तरह योगदान दिया था। अत्रि लोग ही सिन्धु पार करके ईरान चले गए थे, जहां उन्होंने यज्ञ का प्रचार किया। अत्रियों के कारण ही अग्निपूजकों के धर्म पारसी धर्म का सूत्रपात हुआ। अत्रि ऋषि का आश्रम चित्रकूट में था। मान्यता है कि अत्रि-दम्पति की तपस्या और त्रिदेवों की प्रसन्नता के फलस्वरूप विष्णु के अंश से महायोगी दत्तात्रेय, ब्रह्मा के अंश से चन्द्रमा तथा शंकर के अंश से महामुनि दुर्वासा महर्षि अत्रि एवं देवी अनुसूया के पुत्र रूप में जन्मे। ऋषि अत्रि पर अश्विनीकुमारों की भी कृपा थी।

6. आइये जानते हैं जमदग्नि ऋषि का योगदान :

जमदग्नि ऋषि एक ऋषि थे, जो भृगुवंशी ऋचीक के पुत्र थे तथा जिनकी गणना सप्तऋषियों में होती है। पुराणों के अनुसार इनकी पत्नी रेणुका थीं, व इनका आश्रम सरस्वती नदी के तट पर था। जमदग्नि_ऋषि भृगुपुत्र यमदग्नि ने गोवंश की रक्षा पर ऋग्वेद के १६ मंत्रों की रचना की है। केदारखंड के अनुसार, वे आयुर्वेद और चिकित्साशास्त्र के भी विद्वान थे। वैशाख शुक्ल तृतीया इनके पांचवें प्रसिद्ध पुत्र प्रदोषकाल में जन्मे थे जिन्हें परशुराम के नाम से जाना जाता है।

7. आइये जानते हैं गौतम ऋषि का योगदान :

महर्षि गौतम सप्तर्षियों में से एक हैं। वे वैदिक काल के एक महर्षि एवं मन्त्रद्रष्टा थे। ऋग्वेद में उनके नाम से अनेक सूक्त हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार पत्नी अहिल्या थीं जो प्रातःकाल स्मरणीय पंच कन्याओं गिनी जाती हैं। अहिल्या ब्रह्मा की मानस पुत्री थी जो विश्व मे सुंदरता में अद्वितीय थी। हनुमान की माता अंजनी गौतम ऋषी और अहिल्या की पुत्री थी। दैत्य गुरु शुक्राचार्य ने देवताओं द्वारा तिरस्कृत होने के बाद अपनी दीक्षा गौतम ऋषि से पूर्ण की थी। ऋषिओं के इर्श्या वश गोहत्या का झूठा आरोप लगाने के बाद बारह ज्योतिर्लिंगों मैं महत्वपूर्ण त्रयम्बकेश्वर महादेव नाशिक भी गौतम ऋषि की कठोर तपस्या का फल है जहाँ गंगा माता गौतमी अथवा गोदावरी नाम से प्रकट हुईं।


तो इस प्रकार हमने देखा की सप्त ऋषि कौन हैं और इन्होने इन विश्व में क्या योगदान दिया है |


ऋषि मुनि कौन होते हैं, सप्तऋषि कौन है, क्या योगदान है सप्त ऋषियों का, sapt rishi kaun hai, inka kya yogdaan hai |

Comments

Popular posts from this blog

26 symptoms of black magic by astrologer

signs of black magic by astrologer, precautions to take while there is doubt of kala jadu, what are the symptoms of black magic, काले जादू से ग्रस्त होने के संकेत, काले जादू के लक्षण  | Just as Science is both a boon and a curse, similarly as per the use of occult science, it is a boon and a curse. When anyone use occult science for benefits of universe then it is boon and when anyone use it for destruction, it is curse.  symptoms of black magic by astrologer Black magic  is a way to fulfill one's materialistic desires by evils which is not a good idea to survive happily in this world. But there people who are in hurry and don’t have much knowledge try to use the black-magic ways to fulfill wishes and in long run very bad incidents takes place with them, so it is always good to avoid such harmful magic. Self centered people generally wants to get work done anyhow and for this they don’t hesitate to use the black magic too.  But it must be kept in mind that we cannot good from b

14 March Se 20 March 2021 Rashifal

 किन राशि वालो को मिलेगा फ़रवरी के तीसरे हफ्ते विशेष सफलता ज्योतिष अनुसार, rashifal in hindi, prediction from 14 March Se 20 March Rashifal 2021, राशिफल, करियर, प्रेम जीवन / रिश्ते, गोचर कुंडली में सितारों के परिवर्तन के अनुसार जानिए भविष्यवाणी | ज्योतिषी ओम प्रकाश (jyotishsecrets.com) की भविष्यवाणियों में आपका स्वागत है। इस लेख में ब्लॉग पाठक और ज्योतिष प्रेमी जान पायेंगे की किन राशी वालो को विशेष लाभ मिलेगा फ़रवरी के दूसरे हफ्ते (14 March To 20 March Rashifal 2021)| 14 March Se 20 March 2021 Rashifal ==================================== आइये सबसे पहले जानते है आने वाले सप्ताह के कुछ महत्त्वपूर्ण महुरत और दिनों के बारे में : आने वाले सप्ताह में 3 सर्वार्थ सिद्धि के योग मिलेंगे - 14 मार्च, रविवार को सूर्योदय से रात्रि को 1: 38 तक सर्वार्थ सिद्धि का योग रहेगा | 16 मार्च, मंगलवार को पूरे दिन और रात सर्वार्थ सिद्धि का योग रहेगा | 20 मार्च, शनिवार को सूर्योदय से 1:48 दिन तक सर्वार्थ सिद्दी का योग रहेगा | 14 मार्च को सूर्य मीन राशि में प्रवेश करेंगे | विनयकी चतुर्थी व्रत 17 तारीख बु

jadu tone ka upaay in hindi

Jadu Tona Ke Upay , kaise bache kale jadu se, best Solutions by astrologer, what are the remedies of black magic .   काले जादू करने वालो की एक अलग ही दुनिया है जो की शमशान, कब्रिस्तान आदि जगहों में शैतानी शक्ति की पूजा करते हैं और लोगो को हानि पहुचाते, परेशां करते हैं | कुछ इसका स्तेमाल धन कमाने के लिए भी करते हैं |  इस लेख में हम जानेंगे जादू टोन, काले जादू से सम्बंधित महत्त्वपूर्ण बाते और इससे बचने के उपाय | jadu tone ka upaay in hindi काला जादू का स्तेमाल एक हतियार के रूप में किया जाता है सांसारिक इच्छाओं की पूर्ति के लिए परन्तु ये बात ध्यान रखना चाहिए की सांसारिक प्रप्ति अस्थाई होती है | ये विद्या किसी को भी नुकसान पहुचाने का सबसे नकारात्मक तरीका है या फिर यू कहे की शैतानी तरीका है | किसी को हानि पहुचाने के लिए जब भूत, प्रेत या अन्य शैतानी शक्ति का स्तेमाल किया जाता है ये इसे काला जादू कहते हैं | अगर कोई जादू टोना से ग्रस्त हो जाता है तो ऐसे में जरुरी है की जल्द से जल्द उपाय करे अन्यथा सबकुछ बर्बाद हो जाता है | ऐसे बहुत से लोग है जो की इन टोना टोटके पर भरोसा नहीं करते हैं परन्