Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2022

Navtapa kya hota hai kab se lagega

Nautapa kya hota hai, नौतपा कब से शुरू होंगे 2022 में, क्या करें और क्या न करें navtapa mai, 2022 में नौतपा कब से लगेगा?| Nautapa 2022 me 25 मई बुधवार से शुरू होंगे और 2 जून गुरुवार तक रहेंगे | नवतपा में गर्मी अत्यधिक बढ़ जाती है इसीलिए ऐसे में लोग अपने आपको ठंडा रखने के लिए विभिन्न प्रकार के प्रयोग करते हैं | क्या होता है नवतपा ? जब सूर्य देव चन्द्रमा के नक्षत्र रोहिणी में प्रवेश करते हैं तब शुरू होता है नवतपा और ये स्थिति 9 दिन तक बनी रहती है, इसे ही नवतपा कहते हैं | मान्यता के अनुसार इन 9 दिनों में भीषण गर्मी होती है | कहा जाता है की नवतपा जितना तपता है उतनी ही अच्छी बारिश होती है |  Navtapa kya hota hai kab se lagega Read in english what is navtapa? Nautapa/नौतपा के दिनों में क्या करें और क्या न करें? इस समय सूर्य की सीधी किरने धरती पर पड़ती है जिसके कारण गर्मी बढ़ जाती है तो ऐसे में कुछ ध्यान रखना चाहिए : गर्मी ज्यादा पड़ने पर पैरो के तलवे पे मेहंदी लगाना चाहिए, इससे ठंडक रहती है| जब भी बाहर निकले तो शारीर को पूरा ढक के निकले | पानी, फलो के ताजा रस, गन्ने का रस आदि समय समय

Bheeshm Ekadashi Ka Mahatva

भीष्म एकादशी 2022 महत्व, जया एकादशी का महत्व, अच्छे जीवन के लिए क्या करें, कैसे करें एकादशी पूजा से जीवन की बाधाएं दूर, kab hai bheeshm ekadashi, ग्रहों की स्थिति कैसी रहेगी 12 फ़रवरी को ? भीष्म एकादशी, व्रत और अनुष्ठान करके पुण्य संचय करने का बहुत शुभ दिन है। यह एक शक्तिशाली दिन है जो की हिन्दू पंचांग के अनुसार माघ महीने में आता है। इसे जया एकादशी भी कहा जाता है और माघ शुक्ल पक्ष के ग्यारहवें दिन पड़ता है। Bheeshm Ekadashi Ka Mahatva वर्ष 2022 में, भीष्म एकादशी 12 फरवरी, शनिवार को पड़ रही है। पद्म पुराण और स्कंद पुराण, जया एकादशी से संबंधित कई रहस्यों का खुलासा करते है। मान्यता के अनुसार, भीष्म जी ने इसी दिन पांडवों को विष्णु सहस्त्रनाम के रहस्यों का खुलासा किया और उन्हें प्रेरित किया। इस श्लोक में भगवान विष्णु के 1 हजार नाम हैं जो बहुत शक्तिशाली हैं और भगवान विष्णु के आशीर्वाद को आकर्षित करने का सबसे आसान तरीका है। विष्णु सहस्त्रनाम का श्रवण और पाठ करने से भक्तों को जीवन और मृत्यु के चक्र से मुक्ति मिलने में मदद मिलती है और इसलिए भीष्म एकादशी को भक्त उपवास रखते हैं और भगवान विष्ण

suar Ke daant Ke Totke

Shukar dant tabij ke laabh, suar daant ke tabij ke fayde, shukar dant tabij prayog, kab pahne suar ke dant ka tabij,pig teeth benefits, suar ke dant ke totke in hindi, कैसे प्रयोग करे सूअर के दांत का, Shukar Dant mantra in hindi |  सूअर एक ऐसा प्राणी है इस धरती पे जो की सबकुछ खाने में समर्थ है और यही उसकी शक्ति का पता चलता है | भगवन विष्णु के वराह रूप सूअर का ही था और इससे भी पता चलता है की , वे कितने शक्तिशाली होते हैं |  suar Ke daant Ke Totke सूअर दांत के टोटके करने से पहले जान लीजिये महत्त्वपूर्ण बाते : हमेशा शुभ महुरत का ध्यान रखे ताबीज बनाने से पहले | जब भी सूअर का दांत प्रयोग करना हो तो ऐसे में कोशिश करें की जंगली सूअर का दांत ही आपको मिले अन्यथा लाभ पूरा नहीं दिखेगा | सूअर के दांत का टोटका तभी सफल होगा जब आपको उसका दांत कहीं से सहज में ही प्राप्त हो अर्थात उसे आपको मारके दांत नहीं लेना है | प्रयोग करने वाले को ये भी ध्यान रखना होगा की सुकर दन्त खंडित ना हो अन्यथा परिणाम सही नहीं दिखेगा | इसे प्राप्त करने के पश्चात इसे शुद्ध करना पड़ता है और फिर मंत्रो से सिद्ध भी करना होता

Krishn Gayatri Mantra Benefits

Krishna gyatri mantra benefits, how to chant this spell, meaning of krishn gayatri mantra, कृष्ण गायत्री मन्त्र के फायदे | If we want to know about a divine spell which is good for couples, if we want to know one of the best mantra for lovers and if we want to know about a best mantra for healing and to awaken spiritual energy then here is the Krishna gayatri mantra.  Krishn Gayatri Mantra Benefits Table of content: What are Mantras? What is Krishna Gayatri Mantra ( कृष्ण गायत्री मंत्र ) Meaning of Krishna gayatri spell Benefits of reciting krishn gayatri mantra: How to chant the Krishna gayatri mantra ? Will Krishna gayatri mantra really help me? Best time to chant this mantra. How much to chant this spell for best result? What are Mantras? Mantras are made by using Sanskrit words and are very powerful to attract the divine energies. It is believed that god resides in mantra and so the best way to attract the blessings of any god is to chant the mantra.  The divine vibration of

Makar Sankranti Ko graho ki sthiti kaisi rahegi

 कैसा रहेगा मकर संक्रांति २०२२ का, ग्रहों की स्थिति कैसी रहेगी, कितने बजे सूर्य प्रवेश करेगा मकर राशि में ?, क्या सावधानी रखना चाहिए ? 2022 मे 14 जनवरी को लगभग दोपहर को 2:13 मिनट पर सूर्य मकर राशि में प्रवेश करेंगे और बहुत बड़े बदलाव हमे देखने को मिलेंगे | Read in english about 2022 makar sankranti significance   Makar Sankranti Ko graho ki sthiti kaisi rahegi आइये जानते हैं ग्रहों की स्थिति कैसी रहने वाली है मकर संक्रांति को : सूर्य, बुध और शनि एक साथ हो जायेंगे गोचर कुंडली में | मंगल और केतु पहले से ही साथ में है अभी गोचर में जिसके कारण दुर्घटनाएं, महामारी लड़ाई झगडे, आगजनी बढती जा रही है | राहू और चंद्रमा भी साथ में होंगे जिससे की चन्द्र ग्रहण योग भी बनेगा | तो देखा जाए तो 3 ऐसे कॉम्बिनेशन हमे मिलेंगे जिसके कारण सावधानी रखना ज्यादा जरुरी है अन्यथा बहुत लोग परेशानी में आ जायेंगे | watch video here: आइये जानते है क्या क्या सावधानी रखना चाहिए इस बार मकर संक्रांति को ? सबसे पहले तो ये ध्यान रखे की संक्रमण फैलने के योग और प्रबल होंगे जिसके कारण हो सके तो ग्रुप में पतंग ना उडा