Skip to main content

Posts

Showing posts from February, 2022

Mangal aur rahu ki yuti hogi 27 june 2022 ko

Mangal ka rashi parivartan kab hoga, क्या असर होगा मंगल के मेष राशि में गोचर का, किन राशि वालो को मिलेगा लाभ, जानिए राशिफल/भविष्यवाणी | मंगल ग्रह शक्ति का प्रतिक है, जूनून से सम्बन्ध रखता है, भूमि का कारक ग्रह है | जब भी मंगल ग्रह अपनी राशि बदलते हैं तो मौसम में, लोगो के जीवन में, राजनीति में बहुत बड़े बदलाव देखने को मिलते हैं |  27 जून २०२२ सोमवार को सुबह लगभग 5:39 बजे मंगल मीन राशि से निकलके मेष राशि में गोचर करेंगे जो की मंगल की स्व राशि है परन्तु यहाँ पे पहले से ही राहू विराजमान है जिसके कारण मंगल और राहू की युति होगी और अंगारक योग का निर्माण होगा | ये युति 10 अगस्त 2022 बुधवार को रात्रि 9:43 बजे तक बना रहेगा |  अंगारक योग दुर्घटनाओं, आपदाओं, बिमारी आदि को बढ़ा सकता है अतः मंगल के राशि परिवर्तन के कुछ शुभ और कुछ अशुभ परिणाम हमे देखने को मिलेंगे | Mangal aur rahu ki yuti hogi 27 june 2022 ko आइये जानते हैं की मंगल के मेष राशि में गोचर से क्या क्या असर देखने को मिलेगा ? तूफानी बारिश, भूकंप, आगजनी की घटनाओं में बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है |  देश और दुनिया में उपद्रव और अशांति

Mahashivratri significance As per astrology

Astrological significance of 2022 Shivaratri,  Planetary positions on shivratri, Best ways to please lord shiva as per zodiacs . The 14th day of Phalgun Krishna paksh is very auspicious as per as per hindu panchang because this day is celebrated as Mahashivratri.  Devotees use this day to perform special worship to make life successful.  In india, everywhere we can find people chanting names of shiva, performing prayers of different kinds to please lord shiva.  In the year 2022, Mahashivratri is on Ist of March, Tuesday. Mahashivratri significance As per astrology As per shiv mahapuran, the night of MAHASHIVRATRI is very powerful to minimize problems of life like marriage problem, kalsarp problem,  moon problem, black magic problem etc.  This night is used by spiritual practitioners and tantric to activate spells of different kind.  Which types of poojas are possible on mahashivratri? As per scriptures, the whole universe is the manifestation of lord shiva and so nothing is excep

Sita Ashtmi Ka mahattw

Sita Ashtmi Ka mahattw, सीता अष्टमी कब है 2022 में, सीता जी का जन्म कैसे हुआ, कैसे करे पूजा, क्या फायदे होते हैं सीता अष्टमी की पूजा से ? | Sita Ashtami 2022: फाल्गुन महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को माता सीता का अवतरण हुआ था धरती से और इसीलिए हर साल को इस तिथि को सीता अष्टमी मनाया जाता है |  2022 में sita ashtmi 24 फ़रवरी, गुरुवार को मनेगा, इस दिन को जानकी जयंती के नाम से भी जाना जाता है |  Sita Ashtmi Ka mahattw माता सीता को लक्ष्मी जी का रूप माना जाता है और इसीलिए सौभाग्य के लिए, जीवन में सम्पन्नता के लिए इनकी पूजा भी की जाती है | पौराणिक कथा के अनुसार फाल्गुन महीने के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को राजा जनक को धरती पे हल चलाते हुए एक बक्सा मिला और खोलने पे उसमे एक छोटी बच्ची दिखी, राजा जनक ने उन्हें अपना लिया और उनका नाम सीता रखा गया | क्या लाभ होते हैं सीता जी की पूजा से ? सीताजी माता लक्ष्मी का ही रूप थी और एक आदर्श नारी, आदर्श माता थी अतः उनकी पूजा से अनेक लाभ होते हैं |  अगर किसी की शादी नहीं हो रही है तो वो जानकी जयंती के दिन माता की पूजा करके उनसे आशीर्वाद मांग

Falgun mahine ka Mahattw jyotish anusar

फागुन महीना कब से लगेगा 2022, फाल्गुन मास का महत्व, fagun ke mahine me kya karna chahiye | फाल्गुन का महीना हिन्दू पंचांग के अनुसार हिन्दू साल का आखरी महिना होता है | 2022 में फागुन का महिना 17 फ़रवरी से शुरू होगा और 18 मार्च तक रहेगा | fagun  के बाद चैत्र महीने की शुरूआत होती है | फाल्गुन महिना देखा जाए तो आनंद और उल्लास का महिना है, इस महीने से ठण्ड कम होना शुरू होती है और गर्मी शुरू होती है जिसके कारण मौसम अति रोमांटिक हो जाता है | अध्यात्मिक रूप से से भी fagun mahine का बहुत महत्त्व है क्यूंकि इसमें अनेक महत्त्वपूर्ण दिन हमे मिलते हैं जब लोग जीवन की परेशानियों को दूर करने के लिए पूजा पाठ और साधना कर सकते हैं |  Falgun mahine ka Mahattw jyotish anusar Read in english about Falgun month significance as per astrology आइये जानते हैं की फाल्गुन महीने में हमे कौन कौन से महत्त्वपूर्ण दिन मिलेंगे : 24 फ़रवरी को सीता अष्टमी का दिन है जब माँ सीता की पूजा होगी | 26 फ़रवरी, शनिवार को एकादशी का व्रत होगा | 1 मार्च, फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि का पर्व मानेगा | 2 मार्च, बुधव

Gharelu Nuskhe sabhi ke liye

Gharelu Nuskhe sabhi ke liye, खाना कैसे पचायें, काम की बातें|   Gharelu Nuskhe sabhi ke liye अगर खाना पचाने में परेशानी आये तो निम्न घरेलु नुस्खो का प्रयोग करे : दूध ना पचे तो ~ सोंफ दही ना पचे तो ~ सोंठ छाछ ना पचे तो ~जीरा व काली मिर्च अरबी व मूली ना पचे तो ~ अजवायन कड़ी ना पचे तो ~ कड़ी पत्ता, तैल, घी, ना पचे तो ~  कलौंजी... पनीर ना पचे तो ~ भुना जीरा, भोजन ना पचे तो ~ गर्म जल केला ना पचे तो  ~ इलायची              ख़रबूज़ा ना पचे तो ~ मिश्री का उपयोग करें Read in english about important tricks to live a healthy life आइये अब जानते हैं काम की बाते जो सभी के लिए फायदेमंद है : योग,भोग और रोग ये तीन अवस्थाएं है। लकवा - सोडियम की कमी के कारण होता है । हाई वी पी में -  स्नान व सोने से पूर्व एक गिलास जल का सेवन करें तथा स्नान करते समय थोड़ा सा नमक पानी मे डालकर स्नान करे । लो बी पी - सेंधा नमक डालकर पानी पीयें । कूबड़ निकलना- फास्फोरस की कमी । कफ - फास्फोरस की कमी से कफ बिगड़ता है , फास्फोरस की पूर्ति हेतु आर्सेनिक की उपस्थिति जरुरी है । गुड व शहद खाएं  दमा, अस्थमा - सल्फर की कमी । सिजे